Tag «hindi kavita»

अब तुम मुझे अपना बनाओ ना

ना जाने खुदा ने तुझे कैसे बनाया होगा, तेरे जज्बातों को किस तरह सजाया होगा। जब भी देखता हु तो यही सोचता हु की जिस तरह, मुझे बनाया होगा बस उसी तरह मुझे बनाया होगा। तो दूर क्यों हो मुझसे जरा पास आओ ना, अपने दिल के जज्वातो को मेरे दिल से टकराओ ना। कहते …

Share & Support

ये तो मोहोब्बत का नूर है

रोज एक हंगामा सामने आ जाता है। तब आखो से आसू निकल ही आता है! ये तो मोहोब्बत का नूर है साहिब। कभी कम तो कभी ज्यादा आ जाता है!! जनता हू क्यों मेरी परवा नहीं करते वो  जमाने की हवा कान मे है ऐसे नहीं थे वो  मेरा खुश रहना जमाने को रास नहीं …

Share & Support

सोये हुनर को पुकार !! हिंदी कविता !!

जाग अब तू जाग रे, जागने का वक़्त आ गया । देखे जो तूने ख्वाब थे, पूरे होने का वक़्त आ गया ।। तेरी हुनर तेरी कला, दब के कहा ये रह गयी । ढून्ढो मुझे खोजो मुझे, तुमसे ये वो कह रही ।। सूनी है तेरी जिंदगी, अपनी तू पहचान बना ले। तेरी हुनर ही तेरी पहचान है, …

Share & Support