Tag «hindi kavita for love»

ये तो मोहोब्बत का नूर है

रोज एक हंगामा सामने आ जाता है। तब आखो से आसू निकल ही आता है! ये तो मोहोब्बत का नूर है साहिब। कभी कम तो कभी ज्यादा आ जाता है!! जनता हू क्यों मेरी परवा नहीं करते वो  जमाने की हवा कान मे है ऐसे नहीं थे वो  मेरा खुश रहना जमाने को रास नहीं …

Share & Support

तेरे इन्तजार में मेने हर सुबह को शाम कर दिया !!

कभी सूरज को चाँद कभी चाँद को सूरज कर दिया, सब काम अपना छोड़ कर हर लम्हा आपके नाम कर दिया । अब तो आ जाओ मेरी आखो में चमक लाने वाले, तेरे इन्तजार में मेने हर सुबह को शाम कर दिया।। तरस रहे है नयना, नयनो में तू ही खटक रहा है, अब तो …

Share & Support