सकारात्मक और नकारात्मक सोच क्या होती है/Positive And Negative Thinking

सकारात्मक और नकारात्मक सोच क्या होती है/Positive And Negative Thinking

यह जो पॉजिटिव और नेगेटिव थॉट होते हैं वह अपने पॉइंट ऑफ व्यू से होते हैं हम जैसा देखते हैं वैसा हम सोचने लगते हैं हम जैसा सुनते हैं हम वैसा ही सोचने लगते हैं वास्तव में जिसको हम गलत सोच रहे हैं उसको कोई और सही सोच रहा हो जिसको हम सही सोच रहे हैं उसको कोई गलत सोच रहा हो इसी तरह जो थॉट हमें पॉजिटिव लग रहा है वह किसी को नेगेटिव लग रहा हो और जो हमें नेगेटिव लग रहा है वह किसी और को शायद पॉजिटिव लग रहा हो तो कह सकते हैं यह पॉजिटिव-नेगेटिव बात नहीं होती है यह सिर्फ हमारा एक ओपिनियन होता है

Those are positive and negative Thought, they are from their point of view. We look like we look like we listen to what we hear. In fact, we are thinking that someone is thinking right about what we are thinking wrongfully. Anything that we think is right, there is a wrong thought about it. Similarly, the Thought seems positive to us, and someone who seems to be negative seems to be somewhat positive If you are, then you can say it is not positive-negative, it’s just an opiate of ours. 

 

जो थॉट्स आ रहे हैं वह सिर्फ न्यूट्रल होते है उसको हम डिसाइड करते हैं कि यह नेगेटिव है और यह पॉजिटिव है और जिनको हम नेगेटिव डिसाइड कर देते हैं उनके बारे में सोच कर हम खुद ही दुखी होते हैं जैसा ही हमको सब समझ में आ जाता है तो हम रिलैक्स हो जाते हैं और यह पॉजिटिव- नेगेटिव की लड़ाई खत्म हो जाती है और इस लड़ाई से पहले हम यह सोचते हैं कि हम पॉजिटिव थॉट्स को पकड़ के रखे नेगेटिव थॉट्स को पीछे छोड़ दें लेकिन जब तक हमें कुछ समझ नहीं आता है हम बस फालतू में परेशान होते रहते हैं और यह लड़ाई खत्म हो जाती है तो हम शांत हो जाते हैं

The Thats that are coming are just neutral, we let them know that it is negative and it is positive and we are unhappy with the ones we are disposing of negative as we all understand So we get relaxed and the battle of positive-negative is over, and before this fight, we think that we have to put behind positive negative things that keep the positive thought behind. Switch to but unless makes us understand something we are simply upset wasteful and finish this fight that we are quiet.

यह सब क्लियर होता कैसे हैं? क्योंकि हम उस चीज के बारे में उसी तरह सोचते हैं तो हम उसके बारे में सब कुछ जान जाते हैं और यह भी जान जाते हैं कि क्या अच्छा है क्या बुरा है और फिर हम रिलैक्स हो जाते हैं, जैसे मान लो किसी ने आप से लड़ाई कर ली और आप उसके बारे में गलत गलत सोच रहे हो कि उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया?  मैंने उसका क्या बिगाड़ा था?  उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था,  तो भाई यह आपके थॉट्स है यह आप खुद ही क्रिएट कर रहे हो और इनको खुद ही नेगेटिव बोल रहे हो और आप खुद ही परेशान हो रहे हो क्या यह सोचने से आपकी लड़ाई खत्म हो जाएगी? आप बस यह सोचते हो कि यह नेगेटिव थॉट्स है तो क्या यह सोचने से आपकी लड़ाई खत्म हो जाएगी?

How does it all clear? Because we think about that thing in the same way, we get to know everything about it and also know what is good and what is bad and then we become relaxed, just like somebody will fight with you And you are wrongly thinking about that why did he do this to me? What did I spoil her? He should not have done this, so brother is your thought. You are making it yourself and you are speaking negative for yourself and you are getting disturbed by your own thinking, will it end your fight? Do you think that this is a negative thought, then will you end up fighting?

दूसरी तरफ अगर आप उसके बारे में अच्छा सोचोगे और यह सोचोगे कि वह तो अच्छा इंसान है पर मैं ही गलत हूं तो फिर खुद पर गुस्सा आएगा खुद पर गुस्सा आएगा तो गुस्सा दूसरे लोगों पर भी उतरेगा जब हम खुद से नाराज होंगे तो सब से नाराज हो जाएंगे खुद से खुश होंगे तो सब से खुश होंगे

On the other hand if you think about him better and think that he is a good person but I am wrong, then he will get angry at himself, if he gets angry then anger will also fall on other people when we are angry with ourselves, then angry Will be happy with yourself, then everyone will be happy.

अब इसका सलूशन यह है की आप पॉजिटिव को भी छोड़ दीजिए और नेगेटिव को भी छोड़ दीजिए दोनों थॉट्स छोड़ दीजिए ना तो आप पॉजिटिव सोचिए और ना ही नेगेटिव सोचिए उसके बारे में आप क्या सोचते हैं वह आप छोड़ दीजिए आपको क्या लगता है दूसरों को क्या लगता है सब छोड़ दीजिए बस एक बात पर ध्यान दीजिए कि रियल में बात किया है

Now its solution is that you also leave the positive and leave the negative, leave both the Thotts, neither do you think positive and do not think negative, what you think about it, leave you what do you think others do? Looks like it’s all left to pay attention to one thing that has spoken in real.

जरूरी नहीं है कि जो आपको लगता है यह जो आप सोचते हैं वह सही हो मान लीजिए जिससे आपकी लड़ाई हुई है  वह सही हो आप उसके बारे में गलत सोचते हैं हो सकता है वह सही हो क्योंकि उस टाइम आप पूरी तरह नहीं बोल सकते कि वह गलत ही है क्योंकि आप सोच ही तो रहे हैं आपको पता थोड़ी ना है कि वह सही में गलत है हो सकता है वह सही हो और आप उसके बारे में गलत सोच रहे हो आप सिर्फ रियल बात को देखिए आप किसी चीज का फैसला तभी लीजिए जब आप पूरी तरह से संतुष्ट हो जाए पहले से आप ना ही किसी के बारे में अच्छा सोचिए और ना ही बुरा सोचिए

It is not necessary that whatever you think that is what you think is right, so that your fight has happened. It is right that you think about it wrong, it may be right because that time you can not fully say that it It is wrong because you have been thinking that you are not aware that he is wrong in the right way, he is right and you are thinking about him wrongly. Just look at the real thing. If you decide on something then lease When you are completely satisfied you do not think well about anybody nor think bad.

कभी-कभी हम ऐसी बातों को सोच कर परेशान हो जाते हैं जिनके बारे में हमें पता ही नहीं है हम थोड़ा बहुत जानते हैं और हम पता नहीं क्या-क्या सोच लेते हैं हम घटनास्थल पर नहीं होते हैं फिर भी हम पता नहीं क्या-क्या सोच लेते हैं किसी के बारे में अच्छा सोच लेते हैं किसी के बारे में बुरा सोच लेते हैं तो यही आपकी सबसे बड़ी गलती होती है आप किसी के बारे में अच्छा या बुरा तब तक ना सोचे जब तक आप को पूरी बात पता ना हो रियल में क्या हुआ था यह बात जब तक आप ना जान ले तब तक आप किसी के बारे में बुरा या भला ना सोचे

Sometimes we get annoyed by thinking of things we do not know about, we know a little bit and we do not know what we think we are not at the spot, yet we do not know what Think of someone good about someone thinking bad about someone, then this is your biggest mistake, do not think about anybody good or bad until you get the whole point Received not what happened in the real thing until you do not know the long bad about anybody or rather not think.

क्या हमें पता था कि वहां क्या हुआ था?  क्यों उसने ऐसा किया?  उसके दिमाग में क्या चल रहा था?  क्या वजह थी यह काम करने की?  जब तक हमें ऐसी कुछ चीजों का पता नहीं चल जाता तो हम उसके बारे में सही या गलत कैसे सोच सकते हैं क्या पता वह खुद बुरा बनकर आप को महान बनाने की कोशिश कर रहा हो

Did we know what happened there? Why did he do this? What was going on in his mind? What was the reason to do this work? As long as we do not know some of these things, how can we think about right or wrong about it, whether it is bad and trying to make you great

कुछ भी हो सकता है हो सकता है आप सही सोच रहे हो पर हो गलत, और आप गलत सोच रहे हो वह सही हो तो अगर हम एक रिलेशनशिप के बारे में बात करें कि जो हमें लग रहा है जो हम सोच रहे हैं उसे छोड़ दें और रियल बात को देखें तो किसी भी बड़ी से बड़ी प्रॉब्लम का सलूशन निकल सकता है

Anything may be possible you are thinking right but you are wrong, and you are thinking wrong, that is right, so if we talk about a relationship that we are thinking of leaving what we are thinking. If you look at the real thing, then any big problem can be solunished.

 

जो आप सोचते हैं वह गलत हो सकता है क्योंकि आप सिर्फ सोच रहे हैं

What you think may be wrong because you are just thinking

                                                                                     Rahul Kushwaha

Share & Support
Skip to toolbar