Orchha Dham Ek Dusri Ayodhya

Orchha dham ek dusri ayodhya

श्री राम राजा ओरछाधीश ओरछा जिला टीकमगढ़ (म.प्र)
बुंदेलखंड की अयोध्या है ओरछा Orchha dham ek dusri ayodhya

संसार का एक यह अकेला ऐसा मंदिर है जहां भगवान राम की पूजा एक राजा के रूप में की जाती है सुबह सूर्य निकलने से पहले और सूर्य डूबने के बाद मैन की आरती की जाती है और सलामी दी जाती है

श्रद्धालु लोग Orchha को दूसरी Ayodhya मानते हैं भगवान RAM यहां पर अपने बाल रूप में पधारे हुए हैं यह कहा जाता है की श्री राम दिन में यहां तो रात्रि में अयोध्या में विश्राम karte

श्री राम के Ayodhya से Orchha आने की एक बहुत ही सुंदर कथा है जो इस Article के through हम आपको बताएंगे

Orchha dham ek dusri ayodhya

एक दिन Orchha के राजा मधुकर शाह मैं अपनी पत्नी गणेशकुमारी से कृष्णा उपासना के लिए वृंदावन जाने के लिए कहा अब क्योंकि उनकी पत्नी श्री Shri Ram ki bhakt thi तो उन्होंने जाने से इंकार कर दिया तो राजा ने क्रोध में कह दिया कि अगर आपको Shri Ram se Lagab है तो उन्हें अयोध्या से ओरछा ही ले आओ Orchha dham ek dusri ayodhya

रानी इस बात को मन में बसा कर सरयू नदी के किनारे लक्ष्मण के लिए के निकट अपनी कुटिया बनाकर श्री राम की उपासना साधना करने लगी तभी उन दिनों संत शिरोमणि तुलसीदास अयोध्या में अपनी साधना कर रहे थे तो शांत से आशीर्वाद पाकर रानी का विश्वास Powerfull हो गया

लेकिन श्री राम के उनको दर्शन नहीं हो बाद में बहुत निराश होकर नदी सरयू में अपना शरीर त्यागने कर नीचे कर चुकी थी और जाकर नदी में कूद गई और इन्हीं जल की गहराइयों में उनको भगवान श्री राम के दर्शन हुए रानी ने उनको अपनी इच्छा सुनाई

भगवान श्री राम अयोध्या से ओरछा चलने के लिए तैयार हो गए और उन्होंने कुछ शर्ते रखी उनमें से एक मुख्य थी कि पैदल यात्रा करेंगे और इस बीच श्री राम की मूर्ति को जिस जगह सबसे पहले रखते हैं वही पर श्रीराम बस जाएंगे और वहां से दोबारा नहीं उठेगी रानी अपने राज्य ओरछा मैं पैगाम भिजवाया

एक मुहूर्त निकाल कर श्री राम के लिए चतुर्भुज मंदिर बनवाया और उनकी स्थापना के लिए पूरी तैयारियां की है लेकिन श्रीराम ने उस मंदिर में जाने से मना कर दिया कहते हैं कि श्रीराम बचपन में ही आए थे चतुर्भुज मंदिर में जाने से इंकार करने पर उन्होंने महल में ही रहना उचित समझा और शायद इसलिए ही चतुर्भुज मंदिर आज भी वीरान पड़ा हुआ है

और वह मूर्ति के सामने अपने महल में ही विराजमान कर दी इस मूर्ति के आस पास बहुत सारे हनुमान जी के मंदिर बने हुए हैं और पूरी अयोध्या में भी काफी मंदिर बने हुए हैं Orchha dham ek dusri ayodhya

ओरछा झांसी से मात्र 16 किलोमीटर की दूरी पर है झांसी देश के प्रमुख रेलवे लाइनों से जुड़ा हुआ है पर्यटक अगर रोज आ जाना चाहे तो झांसी से होकर ही आना पड़ता है

ये भी पढ़े !!

सावित्रीबाई फुले भारत की पहली शिक्षिका !!

बिल गेट्स Bill Gates हर सेकंड 12,054 रूपए कमाते है

Biography of Rani Laxmi-Bai in Hindi

प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी नारे एवं उद्धरण

बेटी की दास्तान

TOP 10 FUNNY JOKES IN HINDI

भगवान की प्लानिंग

“चाणक्य नीति”

माँ और पत्नी देखे कौन बड़ा Hindi Story

सेठ और साधू की कहानी आखे खुल जाएगी

13 फिल्मों के ऐसे डायलॉग जो आपको कहीं हिम्मत नहीं हारने देंगे

अब तुम मुझे अपना बनाओ ना

सोये हुनर को पुकार !! हिंदी कविता !!

तेरे इन्तजार में मेने हर सुबह को शाम कर दिया !!

Share & Support